Total Pageviews

Thursday, 29 August 2013

लकडी के टुकडो से लिखी श्रीमद्भागवत लिखी

फर्नीचर बनाने के बाद उससे बची लकडी के टुकडो से श्रीमद्भागवत गीता को लिखने का काम कानपुर जरौली निवासी संदीप सोनी ने किया।  इन्होने आईटीआई से कारपेँटर का डिप्लोमा किया है| लकडी के अक्षरो से लिखी गई गीता की ऊँचाई 12 इंच और चौडाई 24 इंच है, तीन साल की मेहनत के बाद संदीप ने प्लाई की 32 शीटो पर सागौन की लकडी के अक्षरो से गीता के 18 अध्याय लिखे जिसके प्रत्येक अक्षरो की मोटाई 6 मि॰मी॰ और ऊंचाई 10 मि॰मी॰ है गीता के 706 श्लोक लिख संदीप ने अपनी रचनात्मकता का प्रदर्शन किया...। 15 जून 2010 से इन्होने जब शुरूआत की तो मोहल्ले वालो और रिश्तेदारो ने इनका मजाक उडाया पर माँ के प्रोत्साहन और इनकी मेहनत ने कर दिखाया..। और 25 अगस्त 2013 को इन्होने श्रीमद् भागवत को पूरा किया...॥
Post a Comment