Total Pageviews

Friday, 24 March 2017

प्रदूषण कम करने की दिशा में अनुभव वाधवा का अनूठा उपक्रम ‘टायरलेसली’

इस दौर में आज बड़े क्या,बच्चे भी अपना नाम रोशन कर रहे हैं। अनुभव वाधवा ऐसे ही एक 16 साल के विद्यार्थी हैं। जिस उम्र में बच्चे अपने करियर के बारे में नहीं सोच पाते उस उम्र में अनुभव ने अपना स्टार्टअप शुरू कर दिया है। अनुभव गुड़गांव में रहते हैं और वह पाथवे वल्र्ड स्कूल अरावली, गुड़गांव में ग्यारवीं कक्षा के छात्र हैं। अनुभव ने अपने काम की शुरूआत 2012 में ‘टेकऐप्टो’ के साथ की और उसकेबाद दिसम्बर 2015 में उन्होंने ‘टायरलेसली’ की नींव रखी और जनवरी 2016 में उन्होंने इसे लाँच कर दिया। 

अनुभव ने टायरलेसली कंपनी शुरू करने के बारे में बताया कि जब एक दिन वह स्कूल से घर वापस आ रहे थे तो उन्होंने सड़क पर पुराने टायरों को बिखरे हुए देखा तो उन्हें बहुत बुरा लगा क्योंकि इससे वातावरण में सल्फरडाइ आक्साइड की मात्रा बढ़ती है,जिससे हवा प्रदूषित होती है। इस घटना के बाद जब वह घर लौटे तोसबसे पहले गूगल पर सर्च किया कि पुराने टायरों को कैसे नष्ट किया जासकता है। लेकिन उस समय वह निराश हो गए जब उन्होंने पाया कि हमारे देश में ऐसा कोई कारगर तरीका नहीं है जिससे टायरों को बिना जलाये नष्ट किया जा सके। तब उसी समय उन्होंने तय किया किइस के लिए कुछ करना बहुत ज़रूरीहै। 


टायरलेसली पुराने टायरों को इक्कठा करके उन्हें अनेक उत्पादों में परिवर्तित करती है। टायरलेसली के मुख्य दो उद्देशय हैं, एक मैटिरीयल रिकवरी औरदूसरा एनर्जी रिकवरी। टायरलेसली को अगर आप पुराने टायर देना चाहते हैं तो कोई भी इनकी वेबसाइट पर जाकर मैसेज छोड़ सकता है। जिसके बाद ये आपकी बताई गई जगह से पुराने टायरों को उठाने काकाम करते हैं। यह सेवा वो फिलहाल दिल्ली और आस पास के क्षेत्रों में दे रहे हैं। अनुभव ने बताया कि जल्द ही वह अपनी सेवा का विस्तार देश के 12 अन्य प्रमुख शहरों में करने वाले हैं। 

पुराने टायरों को इक्ðाकरने के लिए उन्होंने गुड़गांव में एकगोदाम किराय पर लिया है औरउनके पास एक वैन है जोअलग-अलग जगहों से टायरों को करने का काम करती है। अभीटायरलेसली के पास 5 लोगों कास्टाफ है। अनुभव का कहना है कि वो जब लोगों से पुराने टायर लेते हैंतो उसके बदले फिलहाल यह कोई भुगतान तो नहीं करते हैं। लेकिन टायर लाने और ले जाने का काम मुफ्त में करते हैं। खास बात ये है कि चाहे एक टायर हो या सौ टायर हों, ये हर जगह पर अपनी सेवा देते हैं।अब तक पुराने टायरों का इस्तेमाल चीनी उद्योग और इसी तरह के कई दूसरे उद्योगों में काफी इस्तेमाल होता है। जिससे वायु प्रदुषण होता है। टायरलेसली हवा को प्रदूषित किये बिना टायरों को डिसपोज़ कार उनसे तेल, ग्रीस और दूसरे उत्पाद बिना प्रदूषण कियेनिकालती है। 

कंपनी में प्रारंभिक निवेश अनुभव ने अपने पुराने वेंचर के निवेशकों से मिली राशि को लगाकर किया है। कंपनी की भविष्य में होनेवाली आय के बारे में बात करते हुए अनुभव बताते हैं कि वेबसाइट मेंआने वाले विज्ञापन उनकी आय का मुख्य स्त्रोत होंगे। ग्यारवीं कक्षा मेंपढ़ने वाले अनुभव ने यह भी बताया कि किस प्रकार वह पढ़ाई के साथ इस काम के लिए समय निकाल पातेहैं। 

उन्होंने बताया कि दैनिक कामों के लिए उन्होंने अपना समय निर्धारित किया हुआ है और जिस कारण वह पढ़ाई के साथ टायरलेसली के लिए भी काम कर पाते हैं। उनका कहना है कि वो दिन भर पढ़ाई करने के बाद ज्यादातर शाम के समय अपने इस काम पर ध्यान देते हैं। इस तरह ना तो पढ़ाई छूटती है और न ही उनके इस काम पर असर पड़ता है। उनके इस काम में सबसे ज्यादा मदद उनके माता-पिता करते हैं जो नियमित तौर पर अपने काम को लेकर उनका मनोबल बनाये रखते हैं। 

अनुभव के अनुसार उनकीकोशिश है कि वो फरवरी के अंततक कम से कम एक हज़ार बेकार टायर  करें और उनकी योजना अपने इस काम को देश भर में फैलाने की है। टायरलेसली के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए आप उनके फेसबुक पेज https://www.facebook.com/Tyrelessly/ या उनकी वेबसाइ www.tyrelessly.com  पर जा कर जान सकते हैं।
Post a Comment