Total Pageviews

Monday, 9 September 2013

चन्द्र शेखर लोहुमी : उत्तराखण्ड के महान वैज्ञानिक

चन्द्र शेखर लोहुमी (1904-1984)
cs_lohimi
स्व० चन्द्र शेखर लोहुमी जी
अल्मोड़ा जिले के सतराली गांव के एक गरीब किसान श्री बचीराम लोहनी के घर वर्ष १९०४ में जन्मे चन्द्र शेखर लोहुमी जी ने मात्र हाईस्कूल तक की शिक्षा प्राप्त की थी, इन्होंने अपनी असाधारण प्रतिभा से वह कर दिखाया, जो साधन संपन्न वैज्ञानिकों के लिये एक चुनौती बन गया।
लोहुमी जी ने १९३२ में प्रथम श्रेणी में मिडिल की परीक्षा पास की और उसके बाद अध्यापन को अपना पेशा बनाया। लोहुमी जी ने पढ़ाई की एक सुगम विधि भी तैयार की और उसी विधि से छात्रों को पढ़ाने लगे। इससे प्रभावित होकर तत्कालीन शिक्षा मंत्री (१९३२) कमलापति त्रिपाठी जी ने इन्हें ५०० रु० का अनुदान दिया और १९६४ में इन्हें राष्ट्रपति के हाथों इन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार भी मिला।
१९६७ में इन्होंने लेन्टाना (कुरी घास) को नष्ट करने वाले कीट की खोज कर तहलका मचा दिया। १९७८ में जैव विज्ञान चयनिका के अंक १ में इन्होंने लिखा था कि “१८०७ में कुछ पुष्प प्रेमी अंग्रेज अपने साथ मैक्सिको से एक फूलों की झाड़ी साथ लाये थे। इसके कुछ पौधे नैनीताल और हल्द्वानी के पास कंकर वाली कोठी में लगाये गये थे। शनैः-शनैः यह झाड़ी पूरे भाबर क्षेत्र और पहाड़ों में भी फैल गई। आज तो स्थिति यह है कि लेन्टाना उत्तराखण्ड के घाटी इलाकों में भी फैल गया है। हजारों एकड़ जमीन इस घास के प्रभाव में आने के कारण कृ्षि विहीन हो गई है” लेन्टाना बग के कीट को खोजने के लिये मास्टर जी ने ४ साल तक अथक प्रयास किया, इसके लिये उन्होंने २४ किस्म के अनाज, ६ फूलों, १८ फलों, २३ तरकारियों, २४ झाड़ियों, ३७ वन वृक्षों और २५ जलीय पौधों पर परीक्षण किया। इनके इस शोध को विश्व भर के सभी कीट विग्यानियों और वनस्पति शाष्त्रियों ने एकमत से स्वीकार किया। इस जैवकीय परीक्षण के लिए आई०सी०ए०आर० (इण्डियन काउन्सिल आफ एग्रीकल्चर रिसर्च) ने इन्हें १५००० का किदवई पुरस्कार देकर सम्मानित किया। प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने ५००० और पंतनगर वि०वि० ने १८००० का नकद पारितोषिक दिया। पन्तनगर वि०वि० ने पांच साल तक १०० रुपये की मासिक सहायता भी दी और कुमाऊं वि०वि० ने भी १००० का पारितोषिक दिया।
Pankaj375
लेन्टाना की झाड़ी और फूल
लेन्टाना को जैविक ढंग से नष्ट करने की जानकारी देने के लिये इन्हें लखनऊ और दिल्ली से टी०वी० और रेडियो पर वार्ता के लिये बुलाया गया। पन्तनगर, कुमाऊ, जे एन यू, पूसा इंस्टीट्यूट, विवेकानन्द अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा ने भी इन्हें परीक्षण से प्राप्त उपलब्धियों की जानकारी लेने के लिये आमंत्रित किया। १९७४ में बेसिक शिक्षा परिषद ने इन्हें परिषद का सदस्य मनोनीत किया। १९७६ में जिलाधिकारी नैनीताल और अल्मोड़ा ने इनका नाम पद्मश्री पुरस्कार के लिये नामित किया, लेकिन यथासमय संस्तुति न पहुंचने के कारण वह इस पुरस्कार से वंचित रह गये।
लोहुमी जी ने सुर और लोनिया व ईटवा (ईट-पत्थर) पर १९७५ से अन्वेषण कार्य प्रारम्भ किया, इस विषय पर आपका विस्तृत लेख ८ अक्टूबर, १९७८ के साप्ताहिक हिन्दुस्तान में प्रकाशित हुआ। मक्के की डंठल की राख पर आपने २ साल तक शोध किया, उस पर योजना भेजी, योजना विज्ञान और प्रोद्योगिकी विभाग, उ०प्र० से स्वीकृत हो गई, यह योजना अभी पंतनगर वि०वि० में चलाई जा रही है। ११ अगस्त, १९७६ को सप्रू हाउस, दिल्ली में भारतवर्ष के वैज्ञानिकों का सम्मेलन हुआ। सम्मेलन में “जैवकीय विधि से नियंत्रण तथा विज्ञान कैसे लिखा जाय” विषय पर इन्होंने वैज्ञानिकों के सामने अपने विचार रखे। सभी ने इनकी मुक्त कंठ से सराहना की। तिपतिया घास और तुन की लकड़ी पर भी इनके प्रयोग सफल रहे। मधुमक्खी पालन पर भी आपने अन्वेषण किया।
लेन्टाना बग पर आपने एक पुस्तक लिखी है, जो इण्डियन काउन्सिल आफ एग्रीकल्चर रिसर्च, दिल्ली द्वारा प्रकाशित की गई है। यह पुस्तक देश और विदेश की भाषाओं में भी प्रकाशित हुई है। लोहुमी जी जैसे विज्ञान और अंग्रेजी से अनभिज्ञ व्यक्ति ने वह कर दिखाया, जो साधन संपन्न वैज्ञानिक नहीं कर सके।
(स्व० लोहुमी जी का दुर्लभ चित्र उनके भतीजे श्री मुकेश लोहनी जी ने उपलब्ध कराया है, इस हेतु मेरा पहाड़ उनका हृदय से आभार प्रकट करता है।)


Read more: http://www.merapahad.com/chandra-shekhar-lohumi-great-scienctist-from-uttarakhand/#ixzz2eOmgg3Ne
Post a Comment