Total Pageviews

Thursday, 29 August 2013

लकडी के टुकडो से लिखी श्रीमद्भागवत लिखी

फर्नीचर बनाने के बाद उससे बची लकडी के टुकडो से श्रीमद्भागवत गीता को लिखने का काम कानपुर जरौली निवासी संदीप सोनी ने किया।  इन्होने आईटीआई से कारपेँटर का डिप्लोमा किया है| लकडी के अक्षरो से लिखी गई गीता की ऊँचाई 12 इंच और चौडाई 24 इंच है, तीन साल की मेहनत के बाद संदीप ने प्लाई की 32 शीटो पर सागौन की लकडी के अक्षरो से गीता के 18 अध्याय लिखे जिसके प्रत्येक अक्षरो की मोटाई 6 मि॰मी॰ और ऊंचाई 10 मि॰मी॰ है गीता के 706 श्लोक लिख संदीप ने अपनी रचनात्मकता का प्रदर्शन किया...। 15 जून 2010 से इन्होने जब शुरूआत की तो मोहल्ले वालो और रिश्तेदारो ने इनका मजाक उडाया पर माँ के प्रोत्साहन और इनकी मेहनत ने कर दिखाया..। और 25 अगस्त 2013 को इन्होने श्रीमद् भागवत को पूरा किया...॥

Monday, 19 August 2013


Spend the money that should be spent, enjoy what should be enjoyed, donate what you are able to donate,
but don't leave all to your children or grandchildren,
for you don't want them to become parasites who are waiting for the day you will die!!

Don't worry about what will happen after we are gone, because when we return to dust, we will feel nothing about praises or criticisms.
The time to enjoy the worldly life and your hard earned wealth will be over!

Don't worry too much about your children, for children will have their own destiny and should find their own way.
Don't be your children's slave. Care for them, love them, give them gifts but also enjoy your money while you can.
Life should have more to it than working from the cradle to the grave!!

Don't expect too much from your children. Caring children, though caring, would be too busy with their jobs and commitments to render much help.
Uncaring children may fight over your assets even when you are still alive, and wish for your early demise so they can inherit your properties and wealth. Your children take for granted that they are rightful heirs to your wealth;
but that you have no claims to their money.

50-year old like you, don't trade in your health for wealth by working yourself to an early grave anymore...
Because your money may not be able to buy your health...

When to stop making money, and how much is enough (hundred thousands, million, ten million)?

Out of thousand hectares of good farm land, you can consume only three quarts (of rice) daily;
out of a thousand mansions, you only need eight square meters of space to rest at night.
So, as long as you have enough food and enough money to spend, 
that is good enough.
You should live happily.
Every family has its own problems.
Just do not compare with others for fame and social status and see whose children are doing better, etc.,
but challenge others for happiness, health, enjoyment, quality of life and longevity...
Don't worry about things that you can't change because it doesn't help and it may spoil your health.
You have to create your own well-being and find your own place of happiness.
As long as you are in good mood and good health, think about happy things, do happy things daily and have fun in doing, then you will pass your time happily every day.
One day passes without happiness, you will lose one day.
One day passes with happiness, and then you gain one day.

In good spirit, sickness will cure; in a happy spirit, sickness will cure faster;
in high and happy spirits; sickness will never come.

With good mood, suitable amount of exercise, always in the sun, variety of foods, reasonable amount of vitamin and mineral intake,
hopefully you will live another 20 or 30 years of healthy life of pleasure.

Above all, learn to cherish the goodness around...
 and FRIENDS... They all make you feel young and "wanted"... without them you will surely  feel lost!!

General Knowledege

SATYAM "13-year-old son of a farmer cracks IIT, now aims to be an IAS officer"

13-year-old son of a farmer cracks IIT, now aims to be an IAS officer
Satyam was home-schooled till standard 8 as his family didn't have the necessary financial means to send him to a school.

Bhojpur: Satyam, the 13-year-old son of a farmer in Bihar, is the youngest to crack the IIT entrance exam. He now aspires to be an IAS officer. He secured an all India rank of 679 out of 1,50,000 who had taken the IIT-JEE exam.
"I'm very happy that I'm the youngest IITian and I broke the record of one who had already been the youngest IITians. So I am feeling proud that I'm the youngest IITian of the country," said Satyam.

Born to farmer parents, it has not been an entirely easy ride for Satyam. But notwithstanding the obstacles in life, Satyam, qualified and cleared IIT-JEE exam twice. He had taken the exam first when he was 12-year-old after getting special permission from CBSE but he took the exam again as he was not happy with his rank.

He grew up in a humble background but achieved what what most students can't dream of attaining ever. Cracking IIT-JEE entrance exam at the age of 13 is only the first milestone out of many milestones he wishes to achieve in his life. He aspires to become an aeronautical engineer by the age of 20 and working for NASA is his next target.
He was home-schooled till standard 8 as his family didn't have the necessary financial means to send him to a school and the government institution in his village lacked basic teaching facilities. The CBSE granted him special permission to take the Rajasthan Board Exam and the Resonance Institute in Kota gave him free admission to prepare for IIT exams.
"I feel proud that my son cracked IIT at the age of 13. He also made his village proud," said his father.
Satyam now has his eyes firmly set on his goals. After completing B-Tech in computer science from IIT, he wants to launch a social media platform and then take the UPSC exam to become an IAS officer.

"After completing my B-tech from IIT, I'll be around 17 years. So in the break of 17 to 21 years, I'll be preparing for IAS. After completing 21 years, I'll be giving IAS exams," Satyam said.
Meanwhile, Satyam's family is hoping for a better future for themselves as he has made a giant progress in life.

Sunday, 18 August 2013

Short Symbols



Alt + 0153..... ™... trademark symbol
Alt + 0169.... ©.... copyright symbol
Alt + 0174..... ®....registered trademark symbol
Alt + 0176 ...°......degre­e symbol
Alt + 0177 ...±­-minus sign
Alt + 0182 ...¶.....paragraph mark
Alt + 0190 ...¾....fractio­n, three-fourths
Alt + 0215 ....×.....multi­plication sign
Alt + 0162...¢....the cent sign
Alt + 0161.....¡..... .upside down exclamation point
Alt + 0191.....¿..... ­upside down question mark
Alt + 1...........smiley face
Alt + 2 ......☻.....bla­ck smiley face
Alt + 15.....☼­n
Alt + 12......♀.....f emale sign
Alt + 11.....♂......m­ale sign
Alt + 6.......♠.....s­pade
Alt + 5.......♣...... ­Club
Alt + 3............. ­Heart
Alt + 4.......♦...... ­Diamond
Alt + 13......♪.....e­ighth note
Alt + 14......♫...... ­beamed eighth note
Alt + 8721.... ∑.... N-ary summation (auto sum)
Alt + 251.....√.....s­quare root check mark
Alt + 8236.....∞..... ­infinity
Alt + 24.......↑..... ­up arrow
Alt + 25......↓...... ­down arrow
Alt + 26.....→.....ri­ght arrow
Alt + 27......←.....l­eft arrow
Alt + 18.....↕......u­p/down arrow
Alt + 29......↔... left right arrow

विकलांगता पर हौसले की जीत, पांव से ट्रेक्टर चलाते हैं जगतार

physically disability

किसी ने सही कहा है कि युद्ध में वही जीतता है, जो अंत तक उम्मीद बनाए रखता है। कभी सब कुछ खत्म नहीं होता। वह चाहे जीवन रूपी समर ही क्यों न हो। इसे सही मायनों में चरितार्थ किया है 43 वर्षीय जगतार सिंह ने।
हल्दरी गांव के इस किसान को पैरों की सहायता से ही खेती करते, उन्हीं से कॉपी पर लिखता देख हर कोई दंग रह जाता है। जगतार बताते हैं कि 24 जून 1991 का काला दिन उसे आज भी याद है जब खेती करते वक्त ट्यूबवेल से करंट लग गया। चंडीगढ़ पीजीआइ में कई दिन जिंदगी व मौत के बीच जूझने के बाद डॉक्टरों को उसके दोनों बाजू काटने पड़े। इस हादसे के बाद पूरा परिवार सदमे में आ गया था।
करीब दो साल बाद उसने होश संभाला और इस मुश्किल घड़ी में भी जीवन जीने का रास्ता निकाला। धीरे-धीरे पैरों से ट्रैक्टर चलाने का अभ्यास शुरू किया। पैर से ट्रैक्टर का स्टेयरिंग संभालने, गियर लगाने और रेस नियंत्रित करने में निपुणता हासिल करने से उसे एक नई प्रेरणा मिली। अब वह सामान्य किसान की तरह खेतों में ट्रैक्टर चलाने के साथ ही अन्य कृषि कार्य बखूबी कर रहा है। इतना ही नहीं वह अपने पैरों से ही लिखने का काम भी कर लेता है।

Saturday, 17 August 2013

कैलेंडर की कहानी

डॉ. हरिकृष्ण देवसरे

प्राचीन यूनानी सभ्यता में 'कैंलेंड्‍स' का अर्थ था - 'चिल्लाना'। उन दिनों एक आदमी मुनादी पीटकर बताया करता था कि कल कौन सी तिथि, त्योहार, व्रत आदि होगा। नील नदी में बाढ़ आएगी या वर्षा होगी। इस 'चिल्लाने वाले' के नाम पर ही - दैट हू कैलेंड्‍स इज 'कैलेंडर' शब्द बना। वैसे लैटिन भाषा में 'कैलेंड्‍स' का अर्थ हिसाब-किताब करने का दिन माना गया। उसी आधार पर दिनों, महीनों और वर्षों का हिसाब करने को 'कैलेंडर' कहा गया है।

एक समय था जब कैलेंडर नहीं थे। लोग अनुभव के आधार पर काम करते थे। उनका यह अनुभव प्राकृतिक कार्यों के बारे में था। वर्षा, सर्दी, गर्मी, पतझड़ आदि ही अलग-अलग काम करने के संकेत होते। 

धार्मिक, सा‍माजिक उत्सव और खेती के काम भी इन्हीं पर आधारित थे। समय का सही बँटवारा करना मुश्किल हो जाता। लोगों ने अनुभव किया कि दिन-रात का बँटवारा कभी गड़बड़ नहीं होता। इसी तरह रात में चंद्रमा दिखने का भी एक क्रम है। 

चंद्रमा दिखने का यह क्रम, जिन्हें चंद्रमा की कलाएँ भी कहा गया, निश्चित समय के बाद अवश्य जारी रहता। इस तरह दिन-रात और चंद्रमा की कलाओं के आधार पर दिनों की गिनती की गई। फिर इस अवधि को नाम दिया गया। तारे और चंद्रमा केवल सूर्यास्त के बा‍द दिखते और सूर्यास्त होने पर अँधेरा हो जाता, इसलिए इस अवधि को 'रात' कहा गया। 

सूर्योदय होने से लेकर सूर्यास्त तक की अवधि को 'दिन' का नाम दिया गया। यह भी अनुभव किया गया कि मौसम सूर्य के कारण बदलते हैं। चंद्रमा का चक्र नए चाँद से नए चाँद तक माना गया। सूर्य का चक्र एक मौसम से दूसरे मौसम तक माना गया।

चंद्रमा का चक्र साढ़े उन्तीस दिन में पूरा होता है। उसे 'महीना' कहा गया। सूर्य के चारों मौसम को मिलाकर 'वर्ष' कहा गया। फिर गणना के लिए 'कैलेंडर' या 'पंचांग' का जन्म हुआ। अलग-अलग देशों ने अपने-अपने ढंग से कैलेंडर बनाए क्योंकि एक ही समय में पृथ्‍वी के विभिन्न भागों में दिन-रात और मौसमों में भिन्नता होती है। लोगों का सामाजिक जीवन, खेती, व्यापार आदि इन बातों से विशेष प्रभावित होता था इसलिए हर देश ने अपनी सुविधा के अनुसार कैलेंडर बनाए।

वर्ष की शुरुआत कैसे करें इसके लिए किसी महत्वपूर्ण घटना को आधार माना गया। कहीं किसी राजा की गद्‍दी पर बैठने की घटना से (विक्रम संभव) गिनती शुरू तो कहीं शासकों के नाम से जैसे रोम, यूनान, शक आदि। बाद में तो ईसा के जन्म (ईस्वी सन्) या हजरत मोहम्मद साहब द्वारा मक्का छोड़कर जाने की घटनाओं से कैलेंडर बने और प्रचलित हुए।

रोम का सबसे पुराना कैलेंडर वहाँ के राजा न्यूमा पोंपिलियस के समय का माना जाता है। यह राजा ईसा पूर्व सातवीं शताब्दी में था। आज विश्वभर में जो कैलेंडर प्रयोग में लाया जाता है। उसका आधार रोमन सम्राट जूलियस सीजर का ईसा पूर्व पहली शताब्दी में बनाया कैलेंडर ही है। जूलियस सीजर ने कैलेंडर को सही बनाने में यूनानी ज्योतिषी सोसिजिनीस की सहायता ली थी। इस नए कैलेंडर की शुरुआत जनवरी से मानी गई है। इसे ईसा के जन्म से छियालीस वर्ष पूर्व लागू किया गया था। जूलियस सीजर के कैलेंडर को ईसाई धर्म मानने वाले सभी देशों ने स्वीकार किया। उन्होंने वर्षों की गिनती ईसा के जन्म से की। 

जन्म के पूर्व के वर्ष बी.सी. (बिफोर क्राइस्ट) कहलाए और (बाद के) ए.डी. (आफ्टर डेथ) जन्म पूर्व के वर्षों की गिनती पीछे को आती है, जन्म के बाद के वर्षों की गिनती आगे को बढ़ती है। सौ वर्षों की एक शताब्दी होती है। 

संसार के सभी देश अब एक समय मानते हैं और आपस में तालमेल बिठाकर घड़ियों को शुद्ध रखते हैं। आज समय की पाबंदी बड़ी महत्वपूर्ण हो गई है और लोग उसका मूल्य समझने लगे हैं। 

Friday, 16 August 2013

Engineers without degrees





















  1. Law of Mechanical Repair - After your hands become coated with grease, your nose will begin to itch and you'll have to pee.
  2. Law of Gravity - Any tool, nut, bolt, screw, when dropped, will roll to the least accessible corner.
  3. Law of Probability -The probability of being watched is directly proportional to the stupidity of your act.
  4. Law of Random Numbers - If you dial a wrong number, you never get a busy signal and someone always answers.
  5. Law of the Alibi - If you tell the boss you were late for work because you had a flat tire, the very next morning you will have a flat tire.
  6. Variation Law - If you change lines (or traffic lanes), the one you were in will always move faster than the one you are in now (works every time).
  7. Law of the Bath - When the body is fully immersed in  water, the telephone rings.
  8. Law of Close Encounters -The probability of meeting  someone you know increases dramatically when you are with  someone you don't want to be seen with.
  9. Law of the Result - When you try to prove to someone  that a machine won't work, it will.
  10. Law of Biomechanics - The severity of the itch is  inversely proportional to the reach.
  11. Law of the Theater - At any event, the people whose  seats are furthest from the aisle arrive last.
  12. The Starbucks Law - As soon as you sit down to a cup  of hot coffee, your boss will ask you to do something which will last  until the coffee is cold.
  13. Murphy's Law of Lockers - If there are only two people  in a locker room, they will have adjacent lockers.
  14. Law of Physical Surfaces - The chances of an  open-faced jelly sandwich landing face down on a floor covering are directly correlated to the newness and cost of the carpet/rug.
  15. Law of Logical Argument - Anything is possible if you  don't know what you are talking about.
  16. Brown's Law of Physical Appearance - If the clothes fit, they're ugly.
  17. Oliver's Law of Public Speaking - A closed mouth gathers no feet.
  18. Wilson's Law of Commercial Marketing Strategy  As  soon as you find a product that you really like, they stop making it.
  19. Doctors' Law - If you don't feel well, make an  appointment to go to the doctor, by the time you get there you'll feel  better. Don't make an appointment and you'll stay sick.

PULKIT GAUR..... The Robotic Man of India

पुलकित गौड़
उम्र: 32 साल
स्कूलिंग : केंद्रीय विद्यालय जोधपुर
एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज से मैकेनिकल ब्रांच में बीटेक डिग्री
प्रोफेशन : ग्रिडबोट्स डॉट कंपनी के संस्थापक
उपलब्धि : रोबोटिक्स का प्रमोशन।
पिता : दिनेश कुमार गौड़, आईबी से रिटायर एडिशनल डायरेक्टर
मां : आंगनबाड़ी महिला एवं बाल विकास में सुपरवाइजर।

रोबोट बनाने का जुनून ही था कि कैलिफोर्निया की मेडिटैब कंपनी की 16 लाख रुपए सालाना की नौकरी छोड़ी। रोबोटिक्स प्रोजेक्ट्स पर खुद के ब्लॉग लिखने पर 2006 में गूगल कंपनी ने 45 लाख सालाना का ऑफर दिया। तय किया, अमेरिका या किसी अन्य देश के लिए काम नहीं करना। अपने देश के लिए काम करके इसे दुनिया में नई पहचान देनी है। 2007 में ग्रिडबोट्स डॉट कॉम कंपनी खोली। 2008 में टंकी साफ करने वाला रोबोट बनाया। यह रोबोट टंकी को खाली किए बिना ही उसकी गंदगी को निकाल देता है। यह रोबोट बनाने के लिए मैसाच्यूसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) ने उन्हें इंडिया के टॉप-18 इनोवेटर में शामिल किया। हाल ही में उनकी कंपनी ने भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर के लिए रोबोट तैयार किया है। न्यूक्लियर प्लांट्स के लिए बनाया गया यह रोबोट 100 मीटर की दूरी से मेटेरियल को स्टील के डिब्बों में बंद कर देता है।